Gulzar Love Shayari

गुलज़ार जी भारतीय सिनेमा जगत के मशहूर गीतकार, विश्व प्रसिद्ध शायर, पटकथा लेखक, फ़िल्म निर्देशक तथा नाटक-कार हैं

मिलता तो बहुत कुछ है इस ज़िन्दगी में, बस हम गिनती उसी की करते है जो हासिल ना हो सका

Gulzar Love Shayari

आइना देख कर तसल्ली हुई, हम को इस घर में जानता है कोई।

Gulzar Love Shayari

वक़्त रहता नहीं  कहीं टिक कर, आदत इस की भी है  आदमी सी 

Gulzar Love Shayari

ज़िंदगी यूँ हुई बसर तन्हा, क़ाफ़िला साथ और सफ़र तन्हा

Gulzar Love Shayari

आप के बाद हर घड़ी  हम ने, आप के साथ ही  गुज़ारी है

Gulzar Love Shayari

आप के बाद हर घड़ी  हम ने, आप के साथ ही  गुज़ारी है

Gulzar Love Shayari

अच्छी किताबें और अच्छे लोग,  तुरंत समझ में नहीं आते, उन्हें पढना पड़ता हैं

Gulzar Love Shayari

मैंने दबी आवाज़ में पूछा? मुहब्बत करने लगी हो? नज़रें झुका कर वो बोली! बहुत

Gulzar Love Shayari

यदि आप  इसी प्रकार की शायरी  और विचारों को और अधिक पढ़ना चाहते है तो लिंक पर क्लिक करें