Site icon शायरी अड्डा

+51 Best कुमार विश्वास की हिंदी कविताएं ! Kumar Vishwas Poetry

Kumar Vishwas Poetry

इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपके लिये कुमार विश्वास जी के कविताओं Kumar Vishwas Poetry का संग्रह लेकर आये हैं। कुमार विश्वास जी की प्रेमभरी कवितायें आज के युवाओं के मध्य बहुत ही चर्चित एवं प्रचलित हैं।

कुमार विश्वास जी भारत के एक विश्व प्रख्यात कवि‚ ओजस्वी वक्ता एवं सामाजिक-राजनैतिक कार्यकर्ता हैं। कुमार विश्वास जी की कविता “कोई दीवाना कहता है” बहुत ही मशहूर है | उनकी कुछ प्रसिद्ध कविताएं संग्रहित कर हम आपके लिये प्रस्तुत कर रहे हैंः–

Kumar Vishwas Poetry

Kahi par jag liye tum bin, kahi par so liye tum bin Bhari mahfil main bhi aksar, Akele ho liye tum bin Ye pichle chand varshon ki, kamai saath hain apne.. Kabhi to hans liye tum bin, Kabhi to ro liye tum bin.  
“कहीं पर जग लिए तुम बिन,  कहीं पर सो लिए तुम बिन. भरी महफिल में भी अक्सर,  अकेले हो लिए तुम बिन  ये पिछले चंद वर्षों की कमाई साथ है अपने कभी तो हंस लिए तुम बिन, कभी तो रो लिए तुम बिन.”  

Panahon Main Jo Aaya Ho, Us Par War Kya Karna Jo Dil Hara Hua Ho, Us Par Adhikar Kya Karna. Mohabbt Ka Maza To Dubne Ki Kashmkash Main Hain Jo Ho Malum Gahraayi, To Dariya Paar Kya Karna.

“पनाहों में जो आया हो, उस पर वार क्या करना जो दिल हारा हुआ हो, उस पे फिर से अधिकार क्या करना मोहब्बत का मज़ा तो, डूबने की कशमकश में है. जो हो मालूम गहरायी, तो दरिया पार क्या करना.”  

Girebaan chaak karna kya hain, Seena aur mushkil hain Har ek pal muskura ke,  Ashq peena aur mushkil hain Humari badnaseebee ne, Hume itna shikhaya hain Kisi ke ishq main marne se, Jeena aur mushkil hain.  
“गिरेबां चाक करना क्या है, सीना और मुश्किल है. हर एक पल मुस्कुरा के,  अश्क पीना और मुश्किल है. हमारी बदनसीबी ने, हमें इतना सीखाया है. किसी के इश्क में मरने से,  जीना और मुश्किल है.”  

Mere jeene marne main, Tumhara naam aayega. Main saans rok lu phir bhi, Yahi ilzaam aayegaa. Har ek dhdkan main jab tum ho, To phir apradh kya mera. Agar Radha pukarengi, To Ghanshyam aayega.

“मेरे जीने मरने में, तुम्हारा नाम आएगा. मैं सांस रोक लू फिर भी, यही इलज़ाम आएगा. हर एक धड़कन में जब तुम हो,  तो फिर अपराध क्या मेरा, अगर राधा पुकारेंगी,  तो घनश्याम आएगा.  ”  

इसे भी पढ़ेः– State And Capital Of India : भारत के राज्य और उनकी राजधानी

Kumar Vishwas Poetry

Yah chadar sukh ki mola kyu, Sada choti banata hain. Seera koi bhi thamo, Dusra khud chut jaata hain. Tumhare saath tha to main, zamaane bhar main ruswa tha. Magar ab tum nahi ho to, Zamana sath gata hain.  
” यह चादर सुख की मोल क्यू, सदा छोटी बनाता है. सीरा कोई भी थामो, दूसरा खुद छुट जाता है.  तुम्हारे साथ था तो मैं, जमाने भर में रुसवा था. मगर अब तुम नहीं हो तो, ज़माना साथ गाता है. ”  
Humare sher sunkar bhi jo khamosh itna hain, Khuda jaane guroor e husan main madhosh kitna hain. Kisi pyale se pucha hai surahi ne sbab may ka, Jo khud behosh ho wo kya bataye hosh kitna hain.  
“हमारे शेर सुनकर भी जो खामोश इतना है, खुदा जाने गुरुर ए हुस्न में मदहोश कितना है. किसी प्याले से पूछा है सुराही ने सबब मय का, जो खुद बेहोश हो वो क्या बताये होश कितना है.  ”  

कुमार विश्वास शायरी इन हिंदी

Na paane ki khushi hain kuch, Na khone ka hi kuch gam hain. Ye daulat aur shoharat sirf, Kuch jakhmon ka marham hain. Azab si kashmkash hain, Roz jine, roz marne maine. Mukkamal zindgi to hain, Magar puri se kuch kam hain.  
“ना पाने की खुशी है कुछ ना खोने का ही कुछ गम है. ये दौलत और शोहरत सिर्फ,  कुछ ज़ख्मों का मरहम है. अजब सी कशमकश है, रोज़ जीने, रोज़ मरने में. मुक्कमल ज़िन्दगी तो है, मगर पूरी से कुछ कम है. ”  
Koi kab tak mahaz soche, Koi kab tak mahaz gaaye. Llaahi kya ye mumkin hai ki, Kuchh aesa bhi ho jaaye. Mera mehtaab uski raat ke, Aagosh mein pighale. Main uski neend mein jaagun, Wo mujhme ghul ke so jaaye.  
“कोई कब तक महज सोचे, कोई कब तक महज गाए. ईलाही क्या ये मुमकिन है कि कुछ ऐसा भी हो जाऐ. मेरा मेहताब उसकी रात के आगोश मे पिघले मैँ उसकी नीँद मेँ जागूँ वो मुझमे घुल के सो जाऐ.”  
Tumhare paas hoo.n lekin jo duri hai, Samjhta hun.Tumhaare bin meri hasti adhoori hai, Samjhta hun. Tumhe.n main bhool jaaungaa ye Mumkin hai nahi.n lekin. Tumhi ko bhoolna sabse jaroori hai Samjhta hun.  
“तुम्हारे पास हूँ लेकिन जो दूरी है, समझता हूँ. तुम्हारे बिन मेरी हस्ती अधूरी है, समझता हूँ. तुम्हें मैं भूल जाऊँगा ये मुमकिन है नहीं लेकिन. तुम्हीं को भूलना सबसे जरूरी है, समझता हूँ.  ”  

इसे भी पढ़ेः– जन्म के साथ ही आधार नम्बर: Get Aadhar Linked Birth Certificate

Famous Kumar Vishwas Poetry, Shayari

Tujh ko gurur-e-husn hai  Mujh ko surur-e-fan hai. Dono.n ko khud pasandgi ki Lat buri bhii hai. Tujh mein chhupa ke khud ko  Main rakh doon magar mujhe. Kuchh rakh ke bhUl jaane ki  Aadat buri bhi hai.  
“तुझ को गुरुर ए हुस्न है मुझ को सुरूर ए फ़न. दोनों को खुद पसंदगी की लत बुरी भी है. तुझ में छुपा के खुद को  मैं रख दूँ मग़र मुझे. कुछ रख के भूल जाने की  आदत बुरी भी है.”  
Bhramar koi kumudani par machal baitha to hungama Humare dil main koi khwab pal baitha to hungama Abhi tak doob kar sunte the sab kissa mohabbt ka Main kisse ko hakikat main badal baitha to hungama.  
“भ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामा हमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामा अभी तक डूब कर सुनते थे सब किस्सा मोहब्बत का मैं किस्से को हकीकत में बदल बैठा तो हंगामा.”  

Kumar Vishwas Poetry

Koi khaamosh hai itana, bahaane bhool aaya hoon kisee kee ik taranum mein, taraane bhool aaya hoon. meree ab raah mat takana kabhee e aasamaan vaalo, main ik chidiya kee aankhon mein, udaane bhool aaya hoon.
” कोई खामोश है इतना, बहाने भूल आया हूँ किसी की इक तरनुम में, तराने भूल आया हूँ. मेरी अब राह मत तकना कभी ए आसमां वालो, मैं इक चिड़िया की आँखों में, उड़ाने भूल आया हूँ.”  
Himate-E-Raushani badh jati hai , Hum chirago ki in hawaon se, Koi to jaa ke bata de us ko, Chain badhta hai badduaon se.  
“हिम्मत ए रौशनी बढ़ जाती है, हम चिरागों की इन हवाओं से, कोई तो जा के बता दे उस को, चैन बढता है बद्दुआओं से.”  

Best Love Shayari By Dr. Kumar Vishwas

Kalam ko khoon mein khud ke dubota hoon to hungama, Gireban apna aansoon mein bhigota hoon to hungama, Nahin mujh par bhi jo khud ki khabar wo hai zamaane par, Main hansta hoon to hungama,  main rota hoon to hungama.  
“क़लम को खून में खुद के डुबोता हूँ तो हंगामा, गिरेबां अपना आँसू में भिगोता हूँ तो हंगामा. नहीं मुझ पर भी जो खुद की ख़बर वो है ज़माने पर, मैं हँसता हूँ तो हंगामा, मैं रोता हूँ तो हंगामा. ”  
Ajab hai kaayda Duniya-E-Ishq ka Maula Phool murjhaye tab us par nikhar aata hai  Ajeeb baat hai tabiyat khraab hai jab se Mujh ko tum pe kuchh jyaada pyar aata hai.  
“अजब है कायदा दुनिया ए इश्क का मौला फूल मुरझाये तब उस पर निखार आता है अजीब बात है तबियत ख़राब है जब से मुझ को तुम पे कुछ ज्यादा प्यार आता है. ”  

Kumar Vishwas Poetry

Phalak pe bhor ki dulhan yoon saz ke aai hai, Ye din ugaa hai ya sooraj ke ghar sagaai hai, Abhi bhi aate hai aansoon meri kahani mein, Kalam mein shukrae-khuda hai ki Raushnaai hai .  
“फ़लक पे भोर की दुल्हन यूँ सज के आई है, ये दिन उगा है या सूरज के घर सगाई है, अभी भी आते हैं आँसू मेरी कहानी में, कलम में शुक्र-ए- खुदा है कि रौशनाई है.”  
Tumhara khwab jaise gham ko apnane se darta hai Tumhari aankhn ka aanson khushi pane se darta hai Ajab hai lazzate gham bhi, jo mera dil abhi kal tak Tere jaane se darta tha wo ab aane se darta hai.  
“तुम्हारा ख़्वाब जैसे ग़म को अपनाने से डरता है हमारी आखँ का आँसूं , ख़ुशी पाने से डरता है अज़ब है लज़्ज़ते ग़म भी, जो मेरा दिल अभी कल तक़ तेरे जाने से डरता था वो अब आने से डरता है.  ”  

Kumar Vishwas Poetry

Is udaan par ab sharminda, Main bhi hoon aur tu bhi hain. Aasman se gira parinda, Main bhi hoon aur tu bhi hain. Chut gayi raste main, Jeene marne  ki sari kasme. Apne apne haal main zinda, Main bhi hoon aur tu bhi hain.  
“इस उड़ान पर अब शर्मिंदा में भी हूँ और तू भी है. आसमान से गिरा परिंदा, में भी हूँ  और तू भी है. छुट गयी रस्ते में,  जीने मरने की सारी कसमे. अपने-अपने हाल में जिंदा, में भी हूँ और तू भी है.”  
Kumar Vishwas Poetry
Wo jiska teer chupke se jigar ke paar hota hain Wo koi gaer kya apna hi ristedaar hota hain Kisi se apne dil ki baat tu kahna na bhule se  Yaha khat bhi thodi der main akhbaar hota hain.  
“वो जिसका तीर चुपके से जिगर के पार होता है वो कोई गैर क्या अपना ही रिश्तेदार होता है  किसी  से अपने दिल की बात तू कहना ना भूले से यहाँ ख़त भी थोड़ी देर में अखबार होता है.”  

इसे भी पढ़ेः– यूपी के सभी डीएम के मोबाइल नम्बर ! UP All DM CUG Number LIST and Email ID

Famous Kumar Vishwas Poetry, Shayari

Ek pahaare sa meri ungaliyon pe tahara hai Teri chuppi ka sabab kay hai ?  Ise hal kar de Ye fakat lafz hai to rok de rasta in ka Aur agar sach hai to phir baat muqmml kar de.  
“एक पहाडे सा मेरी उँगलियों पे ठहरा है तेरी चुप्पी का सबब क्या है? इसे हल कर दे ये फ़क़त लफ्ज़ हैं तो रोक दे रस्ता इन का और अगर सच है तो फिर बात मुकम्मल कर दे.  ”  

कुमार विश्वास शायरी इन हिंदी

Har ik khone mein har ik paane mein Teri yaad aati hai, Namak aankho.n mein ghul jaane mein Teri yaad aati hai. Teri amrat bhari laharon ko  Kya maaloom Gangan Maa, Samndar paar viraane mein Teri yaad aati hai.  
“हर इक खोने में हर इक पाने में  तेरी याद आती है नमक आँखों में घुल जाने में तेरी याद आती है. तेरी अमृत भरी लहरों को क्या मालूम गंगा माँ समंदर पार वीराने में तेरी याद आती है.  ”  
Koi patthar ki murat hain, kisi patthr main murat hain Lo humne dekh lee duniya, jo itni khubsurat hain Zamana apni samjhe par, mujhe apni khabr yah hain Tujhe meri jarurat hain. mujhe teri jarurat hain.  
“कोई पत्थर की मूरत है, किसी पत्थर में मूरत है लो हमने देख ली दुनिया, जो इतनी खुबसूरत है  जमाना अपनी समझे पर, मुझे अपनी खबर यह है तुझे मेरी जरुरत है, मुझे तेरी जरुरत है. ”  

Kumar Vishwas shayari status

Wo jo khud mein se kam nikalten hain Unke zahnon mein bam nikalte hain Aap mein kaun kaun rahta hai? Hum mein to sirf hum nikalte hain.  
“वो जो खुद में से कम निकलतें हैं, उनके ज़हनों में बम निकलतें हैं. आप में कौन-कौन रहता है ? हम में तो सिर्फ हम निकलते हैं.”  
Koi deewan kahta hain, koi pagal samjhta hain Magar dharti ki baicheni to, bas badal samjhta hain Main tumse dur kitna hun, tu mujhse dur kitni hain Ye tera dil samjhta hain, ya mera dil samjhta hain.
“कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है मगर धरती की बैचेनी तो, बस बादल समझता है मैं तुमसे दूर कितना हु, तू मुझसे दूर कितनी है ये तेरा दिल समझता है, या मेरा दिल समझता है. ”  
Hame maloom hai do dil judaai sah nahi,n sakte Magar rasme-wafa ye hai ki ye bhi kah nahi sakte Zara kuchh der tum un saahillon ki cheekh sun bhar lo Jo laharo.n mein to doobe hai, Magar sang bah nahi.n sakte.  
“हमें मालूम है दो दिल जुदाई सह नहीं सकते मगर रस्मे-वफ़ा ये है कि ये भी कह नहीं सकते जरा कुछ देर तुम उन साहिलों कि चीख सुन भर लो जो लहरों में तो डूबे हैं, मगर संग बह नहीं सकते.”  

Kumar Vishwas Poetry

Samdar peer ka andar hain, Lekin ro nahi sakta. Yah aansoo pyar ka moti hain, Isko kho nahi sakta. Meri chahat ko dulhan tu, Bana lena magar sun le. Jo mera ho nahi paya, Wo tera ho nahi sakta.
“समंदर पीर का अन्दर है, लेकिन रो नहीं सकता यह आंसू प्यार का मोती है, इसको खो नहीं सकता. मेरी चाहत को दुल्हन तू, बना लेना मगर सुन ले. जो मेरा हो नहीं पाया, वो तेरा हो नहीं सकता.”  
Ummidon ka phata paiharan, Roz-roz silna padata hai, Tum se mile ki koshish mein, Kis kis se milna padta hai.
“उम्मीदों का फटा पैरहन, रोज़-रोज़ सिलना पड़ता है, तुम से मिलने की कोशिश में, किस-किस से मिलना पड़ता है.”  
Ghar se nikala hun to nikala hai ghar bhi sath mere Dekhna ye hai ki manzil pe kaun pahunchega ? Meri kashti mein bhawar bandh ke duniya khush hai Duniya dekhegi ki sahil pe kaun pahunchega. 
“घर से निकला हूँ तो निकला है घर भी साथ मेरे देखना ये है कि मंज़िल पे कौन पहुँचेगा ? मेरी कश्ती में भँवर बाँध के दुनिया ख़ुश है दुनिया देखेगी कि साहिल पे कौन पहुँचेगा.”  

Famous Kumar Vishwas Poetry, Shayari

Sakhiyon santg rangne ki dhamki sunkar kya  Dar jaaunga? Teri gali mein kya hoga ye maaloom hai par aaunga, Bhig rahi hai kaaya saari khajuraahon ki murat si, Is darshan ka aur pradarshan mat karna, Mar Jaaunga.–  
“सखियों संग रंगने की धमकी सुनकर क्या डर जाऊँगा? तेरी गली में क्या होगा ये मालूम है पर आऊँगा, भींग रही है काया सारी खजुराहो की मूरत सी, इस दर्शन का और प्रदर्शन मत करना, मर जाऊँगा.”  
Usi ki taraha mujhe saara zamaana chaahe Wo mera hone se jyaada mujhe paana chaahe Meri palkon se fisal jaata hai chehara tera Ye musafir to koi thikana chaahe. –  
“उसी की तरहा मुझे सारा ज़माना चाहे वो मेरा होने से ज्यादा मुझे पाना चाहे मेरी पलकों से फिसल जाता है चेहरा तेरा ये मुसाफिर तो कोई ठिकाना चाहे. ”  
Basti basti ghor udasi, Parvat parvat sunapan. Man heera bemol lut gaya,  Ghis ghs reeta man chandan. Is dharti se us ambar tak, Do hi cheez gajab ki hain. Ek to tera bholapan hain, Ek mera deewanapan.–  
“बस्ती – बस्ती घोर उदासी, पर्वत – पर्वत सुनापन. मन हीरा बेमोल लुट गया,  घिस -घिस रीता मन चंदन. इस धरती से उस अम्बर तक,  दो ही चीज़ गजब की है.  एक तो तेरा भोलापन है, एक मेरा दीवानापन.”  

इसे भी पढ़ेः– +25 life-changing Teachers day quotes in hindi

आपका सहयोग- 

दोस्‍तों मुझे उम्मीद है कि आपको हमारा ये आर्टिकल Kumar Vishwas Poetry जरूर पसंद आया होगा. यदि आपको यह संग्रह पसंद आया है तो कृपया कुमार विश्वास शायरी से सम्बंधित इस पोस्ट को अपने मित्र और परिवारजनों के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करे.

हमें आशा है कि ये Best Love Shayari By Dr. Kumar Vishwas से सम्बंधित हमारा पोस्टआपको पसन्‍द आये होगें. इसके अलावा अगर आपने अभी तक हमें सोशल मीडिया जैसे instagram और facebook पर फॉलो नहीं किया है तो जल्द ही कर लीजिये.

Exit mobile version