बुद्ध चाहिए युद्ध नहीं

Buddh Chahiye Yuddh nhi

Buddh Chahiye Yuddh nhi रचनाकार रजनी तिलक की एक प्रसिद्ध रचना है‚ जो वर्ष 2006 में दलित निर्वाचित कविताएं नामक पुस्कत के पृष्ठ संख्या 147 पर इतिहासबोध प्रकाशन द्वारा प्रकाशित की गयी है।

क्यों खड़ी की तुमने
बारूद के ढेर पर हमारी दुनिया
मुझे जीवन की आस है।

मैं सावन को आँखों में भरकर
बहारों में झूलना चाहती हूँ
शाँति, ज्ञान, करुणा मेरा गहना
युद्ध, क्रूरता, तृष्णा तुम्हारा हथियार
हिरोशिमा की तड़प मैं भूलना चाहती हूँ।

तुमने जो मृत्यु बीज
परमाणु युद्ध क्यों बोया?
यह घृणा-मृत्यु का वटवृक्ष
पल में लाखों को भी लेगा,
बुद्ध के देश में
पंचशील, संकल्प टूट जाएगा।

मैं जीवन की हथेलियों में
दुलारना चाहती हूँ,
मैं अपने बच्चों को
इंसान बनाना चाहती हूँ,
उस देश में भी मेरी सीमाएँ
अपने बच्चों पर अरमान सजाती होंगी
वह भी उन्हें ‘कुछ’ बनाने की
ललक लिए दुलारती होंगी।

हिरोशिमा की माँओं की सिसक
अभी बाक़ी है।
ये जंग की तलवार
हमारे सिर से हटा दो
बारूद के ढेर पर
क्यों खड़ी हो हमारी दुनिया?

हम जंग नहीं चाहते,
जीना चाहते हैं
हम विनाश नहीं सृजन चाहते हैं
हम युद्ध नहीं
बुद्ध चाहते हैं।

आपका सहयोग- 

दोस्‍तों मुझे उम्मीद है कि आपको हमारा ये आर्टिकल Buddh Chahiye Yuddh nhi जरूर पसंद आया होगा. यदि आपको यह संग्रह पसंद आया है तो कृपया महात्मा बुद्ध से सम्बंधित इस पोस्ट को अपने मित्र और परिवारजनों के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करे.

हमें आशा है कि ये भगवान बुद्ध पर रचित कविताओं से सम्बंधित हमारा पोस्टआपको पसन्‍द आये होगें. इसके अलावा अगर आपने अभी तक हमें सोशल मीडिया जैसे instagram और facebook पर फॉलो नहीं किया है तो जल्द ही कर लीजिये.

Also read: 

Also read: 

Also read: 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

गुलजार साहब की बेहतरीन शायरी ! GULZAR SHAYARI IN HINDI Best Motivational Quotes in hindi ! मोटिवेशनल विचार हिंदी शांति में अनमोन वचन ǃ Peace Quotes in Hindi पिता पर अनमोन विचार ǃ Father Quotes in Hindi पैसों पर शायरी ǃ Money Quotes in Hindi
%d bloggers like this: